मंगलवार, 15 मार्च 2011

मुख्यमंत्री ने किया भण्डार गृह निगम की वेबसाईट का लोकार्पण


 मंगलवार, १५ मार्च २०११

मुख्यमंत्री डॉ.  रमन सिंह ने आज यहां विधानसभा स्थित अपने कार्यालय कक्ष में छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम की नव-निर्मित वेबसाईट का लोकार्पण किया। निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने मुख्यमंत्री को वेबसाईट की विशेषताओं के बारे में बताया। गृह मंत्री श्री ननकीराम कंवर, संसदीय कार्य मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री रामविचार नेताम सहित भण्डार गृह निगम मुख्यालय के अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 उल्लेखनीय है कि राज्य निर्माण के बाद निगम ने पहली बार अपनी गतिविधियों के प्रचार-प्रसार के लिए वेबसाईट की शुरूआत की है।कोई भी व्यक्ति कहीं से भी इन्टरनेट पर वेबसाईट डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट सी जी एस डब्ल्यू सी डॉट सी जी डॉट जी ओ व्ही डॉट इन(www.cgswc.cg.gov.in) पर क्लिक करके इस वेबसाईट का अवलोकन कर सकता है। मुख्यमंत्री ने भण्डार गृह निगम में सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित इस महत्वपूर्ण संचार माध्यम के उपयोग पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि अनाजों के सुरक्षित भण्डारण में भण्डार गृह निगम की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज की इस पहल को निगम के काम-काज में पारदर्शिता की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण बताया और उम्मीद जताई कि इससे आम जनता को भण्डार गृह निगम के कार्यों की पूरी जानकारी आसानी से ऑन लाईन मिल सकेगी। उन्होंने वेबसाईट के शुभारंभ पर निगम अध्यक्ष श्री बजाज सहित निगम के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी।

निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने मुख्यमंत्री को बताया कि वेबसाईट में निगम के सेटअप, अधिकारियों की सूची और राज्य में स्थित निगम की समस्त शाखाओं की सूची आम जनता की जानकारी के लिए प्रदर्शित कर दी गयी है। इसके अलावा निगम की नियमावली और संबंधित सभी अधिनियमों के साथ-साथ निगम के बजट, भण्डार शुल्क और भण्डारण शर्तों की जानकारी, गोदाम निर्माण संबंधी जानकारी निगम द्वारा संचालित गोदामों के फोटोग्राफ्स तथा वार्षिक प्रतिवेदन सहित संचालक मंडल तथा कार्यकारिणी सदस्यों की सूची भी इसमें शामिल की गयी है।




1 टिप्पणी:

  1. बजाज जी निःसन्देह डॉ.साहब ने अपने अभिनव प्रयासों से छत्तीसगढ़ में एक नयी प्रगतिशील क्रांति का सूत्रपात किया है..पर समाज के कुछ तबके पर अब भी उनकी कृपा दृष्टी बाकी है..कृपया मेरे ब्लॉग की पोस्ट "कुश्ती का सिकन्दर मदद का तलबगार है" पढ़ कर किसी ज़रुरत मन्द के लिये आवश्यक पहल करें ..

    उत्तर देंहटाएं