रविवार, 1 जनवरी 2012

गुदड़ी के लाल

 मुख्यमंत्री ने प्रदेश के नेत्रहीन गायक कलाकारों को दिया आशीर्वाद : रेडियो श्रोताओं ने मुख्यमंत्री को दी 
नये वर्ष की बधाई
 
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश के दो नेत्रहीन गायक कलाकारों द्वारा अपनी नेत्रहीनता की कठिन चुनौती के बावजूद संगीत के क्षेत्र में लगातार अर्जित की जा रही कामयाबी पर उन्हें आशीर्वाद सहित शुभकामनाएं दी है। इनमें से राजधानी रायपुर निवासी श्री कांति लाल बरलोटा ने राज्य के इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ से गायन और दर्शन शास्त्र में एम.ए. की डिग्री हासिल की है, जबकि खैरागढ़ की सुश्री कविता देशमुख इन दिनों इसी विश्वविद्यालय में गायन में एम.ए. कर रही हैं।  मुख्यमंत्री को नए वर्ष 2012 की बधाई देने छत्तीसगढ़ राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज के नेतृत्व में आज शाम यहां उनके निवास पर आए छत्तीसगढ़ रेडियो स्रोता संघ के प्रतिनिधि मंडल में ये दोनों नेत्रहीन कलाकार भी शामिल थे। डॉ. सिंह ने सभी लोगों के लिए नये वर्ष पर सुख-समृध्दि की कामना की। डॉ. रमन सिंह ने दोनों प्रतिभावान कलाकारों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि  नेत्रहीन होने के बावजूद संगीत के क्षेत्र में उनकी गहरी दिलचस्पी सभी लोगों के लिए अनुकरणीय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी कामयाबी यह साबित करती है कि अगर मनोबल ऊंचा हो तो कोई भी मंजिल कठिन नहीं होती। मुख्यमंत्री को इस अवसर पर सभी रेडियो श्रोताओं ने आज से प्रारंभ नए कैलेण्डर वर्ष 2012 के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। श्री अशोक बजाज ने मुख्यमंत्री से रेडियो श्रोताओं का परिचय कराया। इनमें रायपुर के श्री शांतनु भट्टाचार्य ने इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ से गायन में प्रथम श्रेणी में एम.ए. किया है। वहीं राजनांदगांव के बाल कलाकार आदित्य कोठारी ने छत्तीसगढ़ी गीतों के एक वीडियो एलबम्ब 'का मया-का पीरित रे' में भी अपनी भूमिका निभाई है। मुख्यमंत्री से मिलने आए रेडियो श्रोताओं ने रायपुर के श्री मोहन लाल देवांगन भी थे, जो आज भी दिन में 17 घंटों तक नियमित रूप से रेडियो विशेष रूप से आकाशवाणी के कार्यक्रम सुनते हैं। प्रतिनिधि मंडल में छत्तीसगढ़ रेडियो श्रोता संघ के सचिव श्री विनोद वंडलकर सहित सर्वश्री परसराम साहू, कमल लखानी, वैभव गोलछा तथा जगदीश राठौर भी शामिल थे।
DPR

1 टिप्पणी: