गुरुवार, 2 जून 2011

देश में राईस हब के रूप में विकसित होगा छत्तीसगढ़ --- बजाज


 
रायगढ़,  (ब्यूरो छत्तीसगढ़)।  की क्षमता तीन गुना बढ़ाने का निर्णय लिया है। छत्तीसगढ़ राज्य को राईस हब के रूप में विकसित करने के लिए भंडारण की क्षमता बढ़ाने का अभियान छेड़ा गया है।
छत्तीसगढ़ स्टेट वेयर हाऊसिंग कारपोरेशन के नवनियुक्त अध्यक्ष अशोक बजाज ने आज यह विचार पेस वार्ता में रखे।
सर्पिट हाऊस में रखे गये पेस वार्ता के दौरान उन्होंने बताया कि पिछले दो दिनों में उन्होंने जांजगीर कोरबा सहित कई जिलों तथा रायगढ़ के कई विकासखण्डों का दौरा कर चावल भंडारण की स्थिति तथा नये गोदाम के लिए स्थल चयन का जायजा लिया है। रायगढ़ जिले में पर्याप्त भंडारण की व्यवस्था की जा रही है। जहां तक वर्तमान में शहर व जिले की भंडारण क्षमता का पश्न है फिलहाल शहर में 9 हजार मिट्रीक टन तथा जिले में 53 हजार 400 मिट्रीक टन भंडारण की क्षमता है जिसे आगामी एक साल में बढ़ाकर शहर की भंडारण क्षमता 40 हजार तथा पूरे जिले की भंडारण क्षमता एक लाख 20 हजार मिट्रिक टन से अधिक तक बढ़ाया जायेगा। इस पकार चावल भंडारण की दृष्टि से रायगढ़ जिले को राईस हब बनाने की योजना है। इसके लिए खरसिया को 15 हजार मिट्रिक टन की क्षमता से बढ़ाकर 58 हजार मिट्रिक टन रायगढ़ को 9 हजार से बढ़ाकर 41 हजार मि. टन घरघोड़ा को एक हजार से बढ़ाकर 4600 मि. टन बरमकेला में 1000 मि.टन को बढ़ाकर 2800 मि.टन लैलूंगा में 1800 मि.टन को बढ़ाकर 1900 मि.टन तथा सारंगढ़ में 6600 मि. टन भंडारण क्षमता को बढ़ाकर 10200 मि.टन करने की योजना है। इसके लिए बड़ा गोदाम बनाया जायेगा। इसी बाबत आज उन्होंने एसडीएम के साथ घरघोड़ा, लोहरसिंग के चावल गोदाम सहित कई स्थानों का निरीक्षण किया है। एक ही जगह पर माडल साईज के 1800 मि.टन क्षमता वाले गोदामों के लिए कारपोरेशन को एक स्थान पर 20 से 25 एकड़ जमीन की जरूरत होगी, इसका पयास जारी है। नये बनने वाले इन गोदामों में फंगस, लगने, चूहों की समस्या तथा अन्य समस्याओं से निजात के लिए बाऊन्ड्रीवाल, गेट, डबल शटर सिस्टम बनाया जायेगा।


      

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें